Wednesday, May 16, 2007

Haiku

कुछ हाइकु
.
1 जिंदगी एक
गमों का है दरिया
बस तैरिये !
.
2 बेटी का जन्म
घर मे है मातम
पराया धन !
.
3 गरीबी पाप
मौत से बदतर
जीना दुश्वार !
.
4 सच की राह
चलना है मुश्किल
कांटो से भरी ।
.
5 निराशा छायी
उजाले छिप गये
क्षितिज तक ।
.
6 स्वप्न सजाओ
दिल को बहलाओ
क्या जाता है ?
.
7 हसरत है
तुम्हारी चाहत की
मिलो न मिलो !
.
8 दिल का दर्द
दिल वाले ही जाने
बिछुड़ कर ।
.
9 अपनी धरा
बिछुड़ कर रोता
माँ तुल्य गोद ।
.
10 क्रूर इंसान
विलुप्त संवेदना
गला काटता ।
.
11 भली लगती
प्यार मे इसरार
इंतजार है ।
.
12 कभी तो मिलो
अपना कह कर
गर्मजोशी से ।
.
13 जमीं बिछुड़ी
अपना किसे कहें
घरौंदे ढ़हे ।
.
14 परदेश है
गाली भी दें तो किसे
अपना कौन ?
.
15 दिली जज्बात
नम हो गयी आँखे
याद जो आयी ।
.
16 अश्क बहाऊँ
कौन भला अपना
पोंछेगा कौन ?
.
17 अंकुर फ़ूटा
प्रकृति का संदेश-
नवजीवन ।
.
कवि कुलवंत सिंह

3 comments:

Jitendra Chaudhary said...

हिन्दी ब्लॉगिंग मे आपका स्वागत है।यदि आप लगातर हिन्दी मे ब्लॉगिंग मे करने का मन बनाते है तो आप अपना ब्लॉग नारद पर रजिस्टर करवाएं। नारद पर आपको हिन्दी चिट्ठों की पूरी जानकारी मिलेगी। किसी भी प्रकार की समस्या आने पर हम आपसे सिर्फ़ एक इमेल की दूरी पर है।

परमजीत बाली said...

अच्छे हाइकु लिखे है। आप की यह रचना बहुत सुन्दर है।बधाई।

नारी
.
मानव पर ऋण - नारी का।
नारी !
जिसने माँ बन -
जन्म दिया मानव को।
.
ईश्वर पर ऋण - नारी का।
ईश्वर!
जिसने जन्म लिया हर बार
एक माँ की कोख से।
.
प्रकृति पर ऋण - नारी का।
प्रकृति !
जिसने सौंपा यह महान उद्देश्य
नारी के हाथ।

Yatish Jain said...

हटके है अच्छा है