Monday, May 28, 2007

नारी

नारी
.
मानव पर ऋण - नारी का।
नारी !
जिसने माँ बन -
जन्म दिया मानव को।
.
ईश्वर पर ऋण - नारी का।
ईश्वर!
जिसने जन्म लिया हर बार
एक माँ की कोख से।
.
प्रकृति पर ऋण - नारी का।
प्रकृति !
जिसने सौंपा यह महान उद्देश्य
नारी के हाथ।
.
.
कवि कुलवंत सिंह

2 comments:

notepad said...

स्वागत है आपका ब्लॉग जगत में आपका ।

ऒशॊदीप said...

कुलवत जी, आप की कविता पढ कर अच्छा लगा , नारी सच ही भगवान की बनाई अनमोल रचना है ।