Friday, February 5, 2010

प्रस्तर मन

मानव मन बना है प्रस्तर

मानव क्या लेकर जाएगा,
मिटटी में खुद मिल जाएगा,

इस जग में फिर कैसे कैसे, ढ़ो रहा आडंबर .
मानव मन बना है प्रस्तर .

पैसा पापों का मूल बना,
हर रिश्ता लगता शूल बना,

अपने हाथ अपनों को मार, नाच रहा दिगंबर .
मानव मन बना है प्रस्तर .

छल, कपट, झूठ पहचान बनी,
सच बात लगे अब झूठ सनी,

लहू पीने को बेताब है, ले हाथ में खंजर .
मानव मन बना है प्रस्तर .

कवि कुलवंत सिंह

11 comments:

संगीता पुरी said...

वाह .. बढिया !!

RaniVishal said...

Accha likha hai....badhai!!
http://kavyamanjusha.blogspot.com/

Udan Tashtari said...

बेहतरीन रचना!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

प्रस्तरों में भी हृदय है,
पत्थरों में भी दया है!
चीड़ का परिवार
इनके अंक में बैठा हुआ है!

Suman said...

nice

वन्दना said...

behtreen prastuti.

योगेश स्वप्न said...

umda rachna. badhaai.

somadri said...

bahut khooob kaha kavi hriday ne

Arunoday said...

Priy Kulvant, Tumhara geet aur muktak padhe. Geet bahut badhiya aur bhavpoorn hai. Sach to yah hai ki aj ham adami me MAN hi nahi pa rahe hain,isiliye adami Patthar ban gaya hai. Samvedanayen jab mar jati hain,tab adami PATTHAR ban jata hai.
Zindagi chalti rahegi,
Sans bhi chalti rahegi.
Samvedana yadi mar gai to,
Zindagi chhalti rahegi.
Tum nirantar likho aur khud ko khud hi parkho. Dr. Arun,Roorkee

kavi kulwant said...

thansk you aall dear friends.. thansk you Arun sir...

सतीश सक्सेना said...

होली और मिलाद उन नबी की हार्दिक शुभकामनायें !